दिल्ली में नोटबंदी पर विचार गोष्ठी

Submitted by admin on Sat, 2017-02-25 12:44

15 फरवरी, 2017 को दिल्ली में लोक राज संगठन के बैनर तले "क्या नोटबंदी राष्ट्र हित में है"”विषय पर गोल मेज चर्चा आयोजित की गई। इस चर्चा में अनेक संगठनों से लोगों ने हिस्सा लिया।

 

इस चर्चा में शामिल होने वाले संगठनों के वक्ता थे - भारत की कम्युनिस्ट पार्टी से प्रो. वाष्र्णेय, कम्युनिस्ट ग़दर पार्टी से का. प्रकाश राव, सीपीआई (एमएल-न्यू प्रोलेतेरियन) से का. शियोमंगल सिद्धांकर, एसयूसीआई (कम्युनिस्ट) से का. आर.के. शर्मा, ऑफ इंडिया फॉरवर्ड ब्लाक से का. धर्मेन्द्र कुमार वर्मा, ए.आई.बी.ई.ए. से डी.डी. रस्तगी, क्रांतिकारी युवा केन्द्र से आलोक, इंकलाबी मजदूर केन्द से का. नरेन्द्र, सिटिजन फॉर डेमोक्रेसी से एन.डी. पंचोली, पी.डी.एफ.आई से का. अर्जून, हरियाणा डेरी बोर्ड से बी.एस. शर्मा, इत्यादी।

 

चर्चा के दौरान वक्ताओं ने बताया कि नोटबंदी लोगों पर किया गया शासक वर्ग एक सोचा-समझा हमला था। सभी ने नोटबंदी निंदा करते हुये कहा कि इससे देशी-विदेशी बड़े पूंजीपतियों के मुनाफें सुनिश्चित होंगे। लोगों को कैशलैस बनाने के लिये डिजीटल भुगतान की ओर जबरदस्ती धकेला जा रहा है। जबकि इससे न तो काला धन खत्म होगा न ही आतंकवाद रुकेगा और न ही अमीरी-गरीबी के बीच की खाई खत्म होगी।

 

NB-15Feb-discussion-1  NB-15Feb-discussion-2

Posted In: India    New Delhi    Delhi    All    Economy    In Action